Counselling Therapy से ओसीडी फोबिया डिप्रेशन की समस्या हुई समाप्त || Share experience || CBT CDT ERP



#trending #MrPsychoGuru #Rajenderjodhpuria #OCD #Mentalhealth #depression #counsellor
#psychology

Mr. Psycho Guru
Rajender Jodhpuria
online counsellor

Rajender Jodhpuria Motivational speaker Psychological counsellor

calling 94683-07000
WhatsApp 80537-70007

rajenderjodhpuria@gmail.com
rajenderjodhpuria.com
Online counselling session

contact for online counselling

1. चिंता रोग
चिंतित रहना ,परेशान रहना, काम में मन ना लगना ,पेट दर्द सिर दर्द कमर दर्द बिना किसी शारीरिक कारण के ,व्यवहार में गुस्सा और चिड़चिड़ापन

2. Depression उदासी रोग
उदास रहना,अकेले रहना
, अंधेरे में रहना, बात करने को मन ना करना, रुचि के कार्यों में इंटरेस्ट खो देना, नकारात्मक विचार आना,आत्महत्या के विचार आना, नींद बहुत कम या ज्यादा आना, भूख कम या ज्यादा लगना

3. OCD वहम का रोग
बार बार हाथ धोना, ताला चेक करना, गैस चेक करना, कपड़ों पर गंदगी महसूस होना, नहाने में ज्यादा समय लगना, रिमोट मोबाइल दरवाजे के हैंडल पर गंदगी के विचार आना, मन में विचार लगातार चलते रहना

4. नींद नहीं आना(Insomnia)

5. 📔✒ *तनाव मुक्त जीवन *✒📔

🌼 *नींद की दवाई से भी मुक्ति* 🌼

🎍 *वैसे तनाव कोई बीमारी है ही नही*🎍
हालांकि यह कहना सुरक्षित है कि कुछ हासिल करने के लिए परेशानी या चिंता करना निश्चित रूप से आपको अपने लक्ष्य की ओर ले जाता है,
फीर भी,

तनाव (Stress) मनःस्थिति से उपजा विकार है। मनःस्थिति एवं परिस्थिति के बीच असंतुलन एवं असामंजस्य के कारण तनाव उत्पन्न होता है। तनाव एक द्वन्द है, जो मन एवं भावनाओं में गहरी दरार पैदा करता है।ज़ी से बदलते माहौल में हमारे शरीर और मन पर जो असर पड़ता है,
जहां तनाव है वहां मानसिक अशांति के वश होकर मनुष्य व्यसन, नशा, डिप्रेशन के वश हो जाता है। मन चलने वाले नकारात्मक विचारों के कारण ही मन में घृण, नफरत, बैर, विरोध, आवेश और क्रोध उत्पन्न होता है।

🍥 तनाव साधारण भाषा में वो हौवा है जिस से लगभग हर कोई आजकल ग्रस्त है करियर ,भविष्य की चिंता, को लेकर बच्चे आजकल समय से पहले संजीदा हो जाते है तो उन्हें भी करियर को लेकर बहुत सा तनाव् होता है जीससे नींद न आने की समस्या बढने लगती है । जीससे आप भी मीठी और सुकून भरी नींद के लिये स्‍लीपिंग पिल्‍स लेने के आदी हो चुके हैं, तो ज़रा संभल जाएं। ये गोलियां लंबे समय तक और हाई डोज़ में लेने पर जानलेवा साबित हो सकती हैं।नींद

source